समीक्षा अधिकारी कैसे बने? (Review Officer Ki Naukari Kaise Paye?)

 सरकारी नौकरी का चलन दिन प्रतिदिन भारत में बढ़ता जा रहा है; आजकल लोग सरकारी नौकरी पाना चाहते हैं और उस पर समीक्षा अधिकारी की नौकरी तो हर कोई पाना चाहता है।

12वीं पास करने के बाद बहुत से छात्र समीक्षा अधिकारी नौकरी का ख्वाब देखने लगते हैं, परंतु जानकारी के अभाव के कारण बहुत कम अभ्यर्थी ही  इस पद के लिए आवेदन कर पाते हैं।

अगर आप भी समीक्षा अधिकारी बनना चाहते हैं और आपको नहीं पता कि समीक्षा अधिकारी कैसे बने? तो आज हम आपको बताएंगे कि समीक्षा अधिकारी कौन होता है? और आप  समीक्षा अधिकारी कैसे बने? 

 आप भी यदि समीक्षा अधिकारी के पद के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो आवेदन करने से पहली आपको समीक्षा अधिकारी के बारे में पूरी जानकारी लेनी चाहिए कि समीक्षा अधिकारी कौन होता है और वह क्या कार्य करता है? 

यदि आप समीक्षा अधिकारी के बारे में जानना चाहते हैं तो बस आप हमारे आर्टिकल को ध्यानपूर्वक अंत तक पढ़े|

समीक्षा अधिकारी कौन होता है? (Samiksha Adhikari Kaun Hota Hai?) 

समीक्षा अधिकारी(RO) कैसे बने? (Review Officer Ki Naukari Kaise Paye?)

समीक्षा अधिकारी के पद को पाने के लिए हजारों, लाखों अभ्यार्थी दिन रात पढ़ाई करते हैं; परंतु जो निरंतर मेहनत और लगन से पढ़ाई करता है उसे ही सफलता प्राप्त होती है।

समीक्षा अधिकारी एक राजकीय पद होता है परंतु बहुत से लोग इसे केंद्रीय पद समझते हैं, किंतु ऐसा नहीं है इसे इंग्लिश भाषा में रिव्यू ऑफिसर भी कहा जाता है।

समीक्षा अधिकारी किसी भी राजस्व विभाग जैसे लोकसभा, लोक सेवा आयोग तथा सचिवालय का एक महत्वपूर्ण पद होता है।

समीक्षा अधिकारी का मुख्य कार्य विभाग में आए पत्रों की जांच करना एवं उन पत्रों को एकत्रित करना तथा उन पत्रों का जवाब देना होता है।

समीक्षा अधिकारी दस्तावेज से संबंधित डायरी एवं फाइलों को सुरक्षित करता है तथा अनुभाग द्वारा प्राप्त पत्रों को फाइलों में अंकित करता है|

समीक्षा अधिकारी(RO) कैसे बने? (Review Officer Ki Naukari Kaise Paye?)

समीक्षा अधिकारी बनने के लिए आपको उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित उत्तर प्रदेश समीक्षा अधिकारी परीक्षा उत्तीर्ण करनी होती है।

इस परीक्षा में उत्तीर्ण अभ्यर्थी को उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग भवन, सचिवालय तथा इलाहाबाद आदि में समीक्षा अधिकारी के पद पर नियुक्त किया जाता है।

परंतु इस परीक्षा को उत्तीर्ण करना इतना सरल नहीं है; इसके लिए आपको निरंतर मेहनत करनी होगी जिससे आप परीक्षा में अच्छे अंकों के साथ उत्तीर्ण हो और अच्छी रैंक लाएं।

अगर आप अच्छी रैंक लाएंगे तो ही आपका इस पद के लिए चयन होगा इसलिए आपको इस पद को प्राप्त करने के लिए बहुत मेहनत करनी होगी।

समीक्षा अधिकारी के लिए शैक्षिक योग्यता

यदि आप समीक्षा अधिकारी के पद के लिए आवेदन करना चाहते हैं; तो आपको सबसे पहले किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से इंटरमीडिएट की परीक्षा पास करें।

फिर किसी मान्यता प्राप्त महाविद्यालय से स्नातक करना बेहद जरूरी है; इसके बिना आप आवेदन नहीं कर सकते हैं।

बिना ग्रेजुएशन डिग्री के आप इस पद के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं।

समीक्षा अधिकारी के लिए आयु सीमा

इस परीक्षा में शामिल होने वाले किसी भी वर्ग के अभ्यर्थी के लिए न्यूनतम आयु सीमा 21 वर्ष होती है तथा अधिकतम आयु सीमा 40 वर्ष होती है।आरक्षित वर्ग के लिए नियमानुसार आयु सीमा में छूट होती है।

समीक्षा अधिकारी के लिए चयन प्रणाली

समीक्षा अधिकारी के पद के लिए अभ्यार्थी को लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित उत्तर प्रदेश समीक्षा अधिकारी परीक्षा देनी होती है; जिसके अंतर्गत प्राथमिक व मुख्य परीक्षाएं होती हैं| 

यह दोनों परीक्षाएं लिखित होती हैं; समीक्षा अधिकारी के पद के लिए अभ्यर्थी को कोई भी इंटरव्यू देना नहीं पड़ता है।

प्रारंभिक परीक्षा (Pre Exam)

 प्रारंभिक परीक्षा 200 अंकों की होती है; जिसमें 60 से 65 परसेंट अंक लाना अनिवार्य होता है| इस परीक्षा को पास करने वाला अभ्यर्थी ही मुख्य परीक्षा में बैठ सकता है।इस परीक्षा में कुल 2 पेपर होते हैं|

  1. सामान्य अध्ययन
  2. हिंदी

मुख्य परीक्षा (Main Exam)

मुख्य परीक्षा 400 अंकों की होती है जिसमें 3 प्रश्नपत्र होते हैं; प्रश्न पत्र द्वितीय दो खंडों में विभाजित होता है।सामान्य अध्ययन

  1. सामान्य हिंदी एवं आलेखन खंड(क, ख ) 
  2. हिंदी निबंध

समीक्षा अधिकारी परीक्षा पाठ्यक्रम (Exam Syllabus) 

प्रारंभिक परीक्षा तथा मुख्य परीक्षा को पास करके ही अभ्यार्थी समीक्षा अधिकारी के पद को प्राप्त कर सकता है; इसलिए प्रारंभिक परीक्षा और मुख्य परीक्षा के पाठ्यक्रम को जान लेना बेहद जरूरी होता है।

प्रारंभिक परीक्षा पाठ्यक्रम(Syllabus) –

प्रारंभिक परीक्षा में 2 पेपर होते हैं।

सामान्य अध्ययन परीक्षा पाठ्यक्रम –

इस प्रश्न पत्र में निम्नलिखित विषयों से 140 बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जाते हैं।विश्व भूगोल

  1. भारतीय अर्थव्यवस्था
  2. भारतीय भूगोल
  3. इतिहास
  4. भारतीय संविधान एवं उसकी घटना
  5. विज्ञान तथा विज्ञान प्रौद्योगिकी
  6. जनसंख्या एवं राज्य विशेष
  7. नगरीकरण
  8. कृषि एवं कृषि प्रौद्योगिकी
  9. न्यूज़ अपडेट

हिंदी परीक्षा पाठ्यक्रम

हिंदी की परीक्षा के लिए अभ्यर्थी को 60 प्रश्न करने होते हैं जिसके लिए अभ्यर्थी को 60 मिनट का समय भी दिया जाता है;  हिंदी परीक्षा में इस प्रकार के विषयों से प्रश्न पूछे जाते हैं।विलोम शब्द

  1. पर्यायवाची शब्द
  2. वर्तनी एवं वाक्य शुद्ध
  3. विशेषण और विशेष्य
  4. तत्सम एवं तद्भव
  5. अनेक शब्दों के लिए एक शब्द

मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम (Syllabus) –

मुख्य परीक्षा 400 अंको की होती है जिसमें 3 प्रश्न पत्र हल करने होते हैं।

सामान्य अध्ययन परीक्षा पाठ्यक्रम–

इस प्रश्न पत्र में निम्नलिखित विषयों से संबंधित 120 वस्तुनिष्ठ प्रश्न आते हैं; जिन को हल करने के लिए अभ्यर्थी को 120 मिनट का समय मिलता है।अर्थव्यवस्था एवं संस्कृति

  1. भारत का इतिहास एवं सामान्य विज्ञान
  2. भारतीय राज्य तंत्र एवं भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन
  3. कृषि एवं पर्यावरण
  4. भारत व विश्व का भूगोल
  5. करंट अफेयर्स और राज्य विशेष
  6. वाणिज्य एवं व्यापार
  7. जनसंख्या एवं नगरीकरण

सामान्य हिंदी एवं आलेखन परीक्षा पाठ्यक्रम–

इस प्रश्न पत्र के अंतर्गत 2 खंड आते हैं जिसमें निम्नलिखित विषयों से प्रश्न पूछे जाते हैं।

इसके प्रथम खंड के प्रश्न पत्र में कंप्यूटर ज्ञान वाणिज्यिक एवं प्रशासनिक शब्दावली पत्राचार एवं हिंदी गद्यांश से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं

प्रश्न पत्र के द्वितीय खंड में पर्यायवाची विलोम शब्द, अनेक शब्दों के लिए एक शब्द, वर्तनी एवं वाक्य शुद्ध, विशेषण तथा विशेष्य एवं तत्सम एवं तद्भव से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।

हिंदी निबंध परीक्षा पाठ्यक्रम–

इस प्रश्न पत्र में 3 शीर्षको से संबंधित निबंध लिखने होते हैं| प्रत्येक निबंध 600 अंकों का होता है जिसके लिए अभ्यर्थी को 3 घंटे का समय दिया जाता है।

समीक्षा अधिकारी क्या कार्य करते हैं?

  • समीक्षा अधिकारी का मुख्य कार्य सचिवालय, लोक सेवा आयोग भवन जैसे विभागों के अनुभाग द्वारा आए प्रश्न पत्रों को एकत्रित करना एवं दिनांक के सहित रखना तथा उन प्रश्न पत्रों का जवाब देना है।
  • समीक्षा अधिकारी मुख्यमंत्री कार्यालय अनुभाग को संबंधित पत्र जारी करता है।
  • समीक्षा अधिकारी विभाग में आए सभी पत्रों को फाइल में रजिस्टर करता है एवं फाइलों को सुरक्षित रखता है|

समीक्षा अधिकारी का वेतन कितना होता है? 

समीक्षा अधिकारी का मूल वेतन 47600 के आस पास होता है तथा इस पद का वेतन प्रतिमाह 9300 से लेकर 34800 तक होता है; जो लगातार बढ़ता रहता है।

समीक्षा अधिकारी का प्रमोशन कैसे होता है? 

एक समीक्षा अधिकारी का प्रमोशन आमतौर से लगभग 4 से 5 वर्ष के अनुभव के बाद होता है, समीक्षा अधिकारी प्रमोशन के बाद अनुभाग अधिकारी के रूप में कार्य करता है।

समीक्षा अधिकारी को मिलने वाली सुविधाएं कौन सी हैं? 

गाड़ी की सुविधा–

वैसे तो समीक्षा अधिकारी का कार्य सभी विभागों के कार्यालयों के अंदर होता है परंतु कभी-कभी इन्हें आवश्यक कार्य लग जाने से बाहर भी जाना पड़ता है। इस स्थिति में यह सचिवालय की गाड़ी का यूज करते हैं अगर यह निजी गाड़ी का प्रयोग करते हैं तो उसका सारा खर्चा सरकार उठाती है।

चिकित्सा एवं आवास की सुविधा–

 समीक्षा अधिकारी को सरकार द्वारा आवास प्रदान किया जाता है जिसका सारा खर्चा सरकार उठाती है। तथा समीक्षा अधिकारी अथवा उसके परिजन यदि बीमार होते हैं तो सरकार अस्पताल का सारा खर्च स्वयं व्यय करती है।

इसी प्रकार बहुत ही सुविधाएं सरकार द्वारा समीक्षा अधिकारी को प्रदान की जाती हैं।

  1. ट्रेन में बाहर से खाना कैसे मंगाए?
  2. एक दिन में एग्जाम की तैयारी कैसे करें?
  3. समीक्षा अधिकारी(RO) कैसे बने?                          
  4. जानें पढ़ाई करने का सही समय क्या है?
  5. समीक्षा अधिकारी सिलेबस इन हिंदी
  6. कम समय में परीक्षा की तैयारी कैसे करें?

निष्कर्ष – Review Officer Ki Naukari Kaise Paye?

दोस्तों इस आर्टिकल में हमने आपको बताया कि आप समीक्षा अधिकारी कैसे बन सकते हैं और समीक्षा अधिकारी कौन होता है? 

यदि आप भी समीक्षा अधिकारी बनना चाहते हैं तो यह आर्टिकल आपके लिए अवश्य लाभकारी साबित हुआ होगा और आपको इसके माध्यम से समीक्षा अधिकारी के बारे में समस्त जानकारी प्राप्त हो गई होगी। हम आशा करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा।

Leave a comment