पढ़ाई करने के लिए टाइम टेबल बनाने के बेस्ट तरीके (padhai karne ke liye time table bnane ke best tareeke)

प्रिया छात्र/छात्राओं क्या आप पढ़ाई करने के लिए टाइम टेबल बनाना चाहते हैं और आपको समझ में नहीं आ रहा है कि पढ़ाई करने के लिए टाइम टेबल कैसे बनाएं? तो आप हमारे इस लिस्ट को शुरू से लेकर अंत तक पढ़े । हमने इस लेख में पढ़ाई करने के लिए समय सारणी बनाने के बहुत सारे तरीके बताए हुए हैं।

पढ़ाई करने के लिए समय सारणी का होना बहुत ही महत्वपूर्ण है, क्योंकि ज्यादातर छात्र अपने समय सारणी के ना होने के वजह से पढ़ने के लिए बैठ नहीं पाते हैं और जो पढ़ने के लिए बैठते हैं, तो अपना समय केवल एक ही सब्जेक्ट देकर फालतू समय व्यतीत कर देते हैं और इसके साथ छात्र अपनी पढ़ाई लगतार नहीं कर पाते है।

जब आप पढ़ने के लिए समय सारणी का निर्माण कर लेंगे, तब आप चाहेंगे कि आप अपने सारे काम समय सारणी के अनुसार समाप्त कर दें और ऐसा करने के लिए आप पढ़ भी सकते हैं, तो आइए हम आपको इस बात की जानकारी देते हैं कि पढ़ने के लिए समय सारणी कैसे बनाएं?

पढ़ाई करने के लिए टाइम टेबल बनाने के बेस्ट तरीके

पढ़ाई करने के लिए टाइम टेबल बनाने के बेस्ट तरीके (padhai karne ke liye time table bnane ke best tareeke)

पढ़ाई करने के लिए समय सारणी बनाने काफी आसान हैं और यदि आप अपने स्थिति को देखकर पढ़ाई करने के लिए समय सारणी तैयार करते हैं, तो आप उस समय सारणी को काफी अच्छे से पालन कर सकते हैं।

पढ़ाई करने के लिए समय सारणी बनाने का तरीका नीचे निम्न प्रकार से विस्तारपूर्वक समझाया गया है। यदि आप इस लेख को ध्यान पूर्वक पढ़ेंगे, तो आप काफी आसानी से समय सारणी तैयार कर सकते हैं।

#1. अपने समय का आकलन करें

यदि आप पढ़ाई के लिए टाइम टेबल बनाना चाहते हैं, तो सबसे पहले आपको अपने समय के बारे में जानकारी प्राप्त करना पड़ेगा अर्थात समय का आकलन करें कि आपका समय कहां कहां इन्वेस्ट हो रहा है।

जब तक आप यह नहीं समझेंगे कि आपका समय कहां कहां इन्वेस्ट हो रहा है? तब तक आप अपने पढ़ाई के लिए सही टाइम टेबल का निर्धारण नहीं कर सकते हैं, तो सबसे पहले आप यह देखें कि आप कितने समय सोते हैं?

कितना मनोरंजन में समय व्यतीत करते हैं? इसके अतिरिक्त आप और भी अपना समय जो इधर-उधर व्यतीत हो रहा है, उस पर ध्यान दें। उसके बाद आसानी से अपनी पढ़ाई के लिए टाइम टेबल बना सकते हैं।

#2. पढ़ाई करने के लिए समय निकालें

जब आप अपने समय का आकलन कर लेंगे, तब आपको यह देखना है कि आपके पास पढ़ाई के लिए समय कितना बच रहा है या फिर आप पढ़ाई पर कितना समय दे पा रहे हैं, इससे आप पढ़ाई के लिए समय सारणी बना सकते हैं।

शायद यह हो सकता है कि आपके पास लगतार 5 से 6 घंटे का समय नहीं मिल पा रहा है, पर आप चाहें, तो आप सुबह, शाम, दोपहर और रात के समय को मिलाकर काफी आसानी से 5 से 6 घंटे का समय निकाल सकते हैं

और यदि आपको लगातार 5 से 6 घंटे का समय मिल जा रहा है, तो आप उसके अनुसार अपनी पढ़ाई का समय सारणी बना ले, अन्यथा आप सुबह, शाम, दोपहर और रात के समय को मिलाकर काफी आसानी से समय सारणी बना सकता है।

#3. प्रत्येक दिन की एक्टिविटी पर ध्यान दें

जैसा कि यह बात आपको बहुत अच्छी तरह से पता है कि प्रत्येक व्यक्ति के पास 24 घंटे का समय होता है और उस 24 घंटे में आप जरूर कुछ ना कुछ कार्य करते रहते होंगे, तो आपको यही देखना है कि आप उस 24 घंटे को किस काम में उपयोग करते हैं।

शायद आप 24 घंटे में से अपना कुछ समय ऐसे जगह इन्वेस्ट कर रहे होंगे, जो काफी भारी काम होगा और उससे आप थक कर लंबे समय तक सोते रह जाते होंगे, जिससे आपका टाइम ज्यादा इन्वेस्ट होता होगा,

तो आपको उन्ही समय को अपने अनुसार से मैनेज करना है और आपको अपने पढ़ाई के लिए समय सारणी का निर्धारण करना है। जब आप समय सारणी का निर्धारण कर लेंगे, तब आप काफी आसानी से मन लगाकर पढ़ सकते हैं।

#4. पढ़ाई के लिए सही करने का चयन करें

जब आप अपने एक्टिविटी पर ध्यान देंगे, तो आप काफी आसानी से अपने पढ़ाई के लिए समय निर्धारण कर सकते हैं अर्थात आप यह सोच सकते हैं कि आपके पढ़ने के लिए सबसे बढ़िया समय कौन सा रहेगा?

अर्थात आपको पढ़ने के लिए समय कब मिल सकता है और इसके अतिरिक्त आपको सुबह, शाम, दोपहर या फिर रात में से को पढ़ना कम अच्छा लगता है, तो आप उस अनुसार अपने पढ़ाई के लिए समय सारणी बना ले।

यदि आप पढ़ने के लिए कोई ऐसा समय निर्धारण करते हैं, जो आपके लिए काफी बेस्ट हैं, तो आप काफी अच्छे से पढ़ सकते हैं अतः आप समय का आनंद लेते हुए अपनी पढ़ाई जारी रख सकते हैं।

#5. सिलेबस के अनुसार सब्जेक्ट का समय निर्धारण करे

कुछ समझ में नहीं आ रहा कि पढ़ाई के लिए टाइम टेबल कैसे बनाएं, तो सबसे पहले आप अपनी सिलेबस देखें और जो सबसे कठिन सब्जेक्ट है अर्थात जिसको समझने के लिए ज्यादा समय की जरूरत है, तो उस पर ज्यादा समय दें

और उन सब्जेक्ट पर कम समय जो आपको काफी आसान लगता है और इसी के अनुसार पढ़ने के लिए टाइम टेबल बना ले, इससे आप अपनी पढ़ाई पर ज्यादातर फोकस कर सकते हैं और अच्छे से पढ़ाई कर सकते हैं।

सिलेबस के अनुसार समय का निर्धारण करने से पढ़ने का तरीका काफी आसान हो जाता है और आप उस शब्द पर भी बिल्कुल अच्छा से ध्यान दे सकते हैं, जो आपको बिल्कुल ही समझ में नहीं आता होगा।

#6. रिवीजन का समय निर्धारण करें

जब आप अपने पढ़ने के लिए समय सारणी बनाएंगे, तब आप उस समय सारणी में रिवीजन का समय अवश्य निर्धारण करें। जब आप रिवीजन का समय निर्धारण कर लेंगे, तब आप पिछले दिनों में जो कुछ भी पढ़े होंगे, उसे अवश्य रिवीजन करें, इससे आपकी पढ़ाई सरल हो जाएगी।

आप अपने अनुसार सब कुछ पढ़ने के बाद या फिर पढ़ाई की शुरुआत में रिवीजन का समय निर्धारण कर सकते हैं या फिर आप चाहे, तो जब कभी भी आप अपना कोई सब्जेक्ट पढ़ने जा रहे है, तो उस सब्जेक्ट में आप पिछले दिनों जो कुछ भी पढ़े हैं, उसे रिवीजन कर सकते हैं।

रिवीजन करने से पढ़ाई बिल्कुल सरल हो जाती है और साथ में समय की भी काफी बचत होता है। इसके अतिरिक्त परीक्षा के समय आप पर ज्यादा लोड भी नहीं रहेगा, तो आप अवश्य अपने समय सारणी में रिवीजन का समय निर्धारण करें

#7. पढ़ाई के अलावा अन्य समय का अवकलन करें

जब आप पढ़ाई कर लेते हैं, तो पढ़ाई के बाद आपके पास जो समय बच रहा है, उसे भी अपनी पढ़ाई के समय सारणी में जोड़ने की कोशिश करें, इससे आप अपने पढ़ाई पर ज्यादा समय दे सकते हैं।

इसके लिए बस आपको यह देखना है कि पढ़ाई और अन्य काम करने के पश्चात आपके पास कितना समय बच रहा है और आप अपने अनुसार उस समय में क्या बदलाव लाकर आप अपने पढ़ाई को ज्यादा समय दे सकते हैं।

यदि आप ऐसा कर लेते हैं, तो आप काफ़ी अच्छे से अपनी पढ़ाई को मैनेज कर सकते हैं और आप अपने पढ़ाई पर ज्यादा समय देकर ज्यादा प्राप्त कर सकते हैं, तो पढ़ाई के बाद भी आप अपने समय के बारे में अवश्य विचार करें।

#8. ब्रेक का समय अवश्य निर्धारण करें

आप अपने पढ़ाई के समय में एक ऐसा समय निर्धारण कर ले, जिसमें आप आराम कर सकें, क्योंकि कोई भी छात्र लगता है चार-पांच घंटे नहीं पढ़ पाता है उसे अवश्य चार-पांच घंटे में एक न एक break चाहिए होता है।

आप अपने अनुसार break time का निर्धारण कर ले आप कम से कम 10 मिनट का break अवश्य ले। आप इस break time में गेम खेल सकते हैं या फिर कहीं इधर-उधर घूम कर अपने दिमाग को फ्रेश कर सकते हैं।

आप अपने अनुसार break time को इंजॉय करें और break time समाप्त हो जाने के पश्चात पढ़ने के लिए तुरंत बैठ जाए, ऐसा करके आप अपनी पढ़ाई पर का अच्छा समय दे सकते हैं।

#9. बनाए हुए समय सारणी को समझें

जब आप अपने पढ़ाई के लिए समय सारणी तैयार कर लेंगे, तब आप उस समय सारणी बारे में विचार करके अच्छे से समझ लीजिए। यदि आपका समय सारणी आपके अनुसार बिल्कुल सही है, तो आप उस समय सामने का पालन करें।

इसके अतिरिक्त यदि आपको लग रहा है आप सब अपने समय सारणी को सही से मदद नहीं कर पाएंगे, तो आप उस समय सारणी में बदलाव लाकर अपने अनुसार व्यवस्थित कर ले, इसके बाद उस समय सारणी का पालन करें

यदि आप अपने समय सारणी को समझ कर अच्छे से अपने पढ़ाई लिखाई को मैनेज कर लेंगे तो आप काफी अच्छा विकास कर सकते हैं। इसलिए बनाए हुए समय सारणी पर विचार करके समय सारणी का पालन शुरू कर दें।

#10.  समय सारणी का पालन करें

समय सारणी बनाना ही सब कुछ नहीं होता है। जब तक आप सही इसे अपने समय सारणी का पालन नहीं करेंगे तब तक समय सारणी बनाने का कोई मतलब नहीं रहेगा इसलिए सबसे पहले आपको अपने समय सारणी का पालन करना है।

समय सारणी को पालन करने के साथ-साथ उसे मैनेज भी करना चाहिए अर्थात कभी-कभी आपके पढ़ाई लिखाई में थोड़ा देर हो जाए, तो उसके हिसाब से थोड़ा देर या जल्दी करके अपने समय सारणी के अनुसार कार्य कर सकते हैं।

  1. एक दिन में एग्जाम की तैयारी कैसे करें?
  2. समीक्षा अधिकारी(RO) कैसे बने?                          
  3. जानें पढ़ाई करने का सही समय क्या है?
  4. समीक्षा अधिकारी सिलेबस इन हिंदी
  5. कम समय में परीक्षा की तैयारी कैसे करें?

Conclusion – padhai karne ke liye time table bnane ke best tareeke

आज हमने आपको इस लेख के माध्यम से यह बताने का प्रयास किया है कि आप पढ़ाई करने के लिए समय सारणी कैसे बना सकते हैं। हम उम्मीद करते हैं कि आपको पढ़ाई करने के लिए समय सारणी कैसे बनाएं? अच्छे से समझ में आ गया होगा, जिससे आप काफी आसानी से समय सारणी बनाकर अपने पढ़ाई को लगतार जारी रख सकते है। 

वैसे, आप अपनी स्थिति को देखकर काफी आसानी से समय सारणी तैयार कर सकते हैं और आप जब कभी अपनी स्थिति के अनुसार समय सारणी तैयार करेंगे, तो अपने पढ़ाई पर पूरी तरह से focus कर सकते हैं।

Leave a comment