कलेक्टर से बड़ा अधिकारी कौन होता है? (Collector Se Bada Adhikari Kaun Hai)

कलेक्टर से बड़ा अधिकारी कौन होता है, कलेक्टर से बड़ा कौन है, डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट कौन होता है, डीएम का क्या काम होता है, District Magistrate Kaise Bane, DM Ki Salary Kitni Hoti Hai के बारे में पूरी जानकारी जानने के लिए आर्टिकल पूरा पढ़ें।

कलेक्टर को जिले का बड़ा पद माना जाता है लेकिन क्या आपको पता है, कलेक्टर से भी बड़ा एक अधिकारी होता है। अगर आप जानना चाहते हैं कि कलेक्टर से बड़ा कौन है? तो आज के इस आर्टिकल में आपको सबसे बड़ा अधिकारी कौन होता है (Collector Se Bada Adhikari Kaun Hai) के बारे में बताएंगे।

इस आर्टिकल में आप यह तो जानेंगे ही कि कलेक्टर से बड़ा अधिकारी कौन होता है? इसके अलावा आपको डीएम कौन होता है, डीएम बनने के लिए योग्यता, District Magistrate Kaise Bane, DM Ka Kya Kaam Hota Hai आदि के बारे में भी जानकारी देंगे।

कलेक्टर से बड़ा अधिकारी कौन होता है? (Collector Se Bada Adhikari Kaun Hai)

कलेक्टर से बड़ा अधिकारी कौन होता है? (Collector Se Bada Adhikari Kaun Hai)

अगर आपको अब तक पता नहीं है कि कलेक्टर से बड़ा अधिकारी कौन होता है तो यह आर्टिकल आपके लिए ही है। राज्य में कलेक्टर बड़ा पद होता है लेकिन कलेक्टर से भी बड़ा एक पद होता है, जिस पर पूरे जिले की जिम्मेदारी होती है।

आपको बता दें कि कलेक्टर से बड़ा अधिकारी डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट होता है, जिसे लोग ज्यादातर डीएम कहते हैं। सरकार डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट को किसी एक जिले की जिम्मेदारी सौंपती है।

डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट के अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग कार्य और शक्तियां होती हैं, जिनके बारे में भी आगे जानेंगे। डीएम का कार्य ज्यादातर जिले में कानून व्यवस्था बनाए रखने का होता है।

डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट को प्रशासन की मूल इकाई माना जाता है तथा यह भी एक आईएएस अधिकारी होता है। डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट के बारे में और भी जानकारी आपको बताएंगे, इसलिए आर्टिकल को अधूरा ना छोड़े।

डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट कौन होता है? (DM Kya Hota Hai In Hindi)

डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट को जिले का मुख्य अधिकारी या जिले का मुख्य कहा जाता है, डीएम का पद कलेक्टर से बड़ा पद होता है। जिले में प्रशासन व्यवस्था को सही से चलाने का कार्य डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट का होता है।

डीएम अपने जिले में अपराधों को कम करने का प्रयास करते रहते हैं और जिले में कानून व्यवस्था सही से बनाए रखते हैं। डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट को अपने जिले के पुलिस स्टेशन और जेलों का भी निरीक्षण करना होता है।

आप समझ गए होंगे कि डीएम का पूरा नाम “District Magistrate” होता है। डीएम पर पूरे जिले की जिम्मेदारी होती है, इसलिए जिले का सबसे महत्वपूर्ण पद डीएम को माना जाता है।

डीएम अपने जिले की पुलिस का भी नियंत्रण कर सकता है, उन्हें किसी प्रकार का भी आदेश दे सकता है। इसलिए डीएम को कलेक्टर से बड़ा अधिकारी माना जाता है।

डीएम बनने के लिए योग्यता (DM Banne Ke Liye Kya Qualification Chahiye)

जिस तरह यूपीएससी के अन्य पदों के लिए जरूरी योग्यता होनी चाहिए, उसी तरह डीएम बनने के लिए भी आपके अंदर योग्यता देखी जाती है। कई लोग डीएम बनने के लिए कितनी पढ़ाई होनी चाहिए, इसके बारे में जानना चाहते हैं।

डीएम बनने के लिए योग्यता में जरूरी है कि आपके पास किसी विषय में बैचलर डिग्री हो यानी आपका ग्रेजुएट होना जरूरी है।

यदि आपने मेडिकल, इंजीनियरिंग या अन्य किसी भी विषय में भी ग्रेजुएशन की है, तो भी आप इस परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं और यह परीक्षा दे सकते हैं।

एक जरूरी बात आपको पता होनी चाहिए कि आपके ग्रेजुएशन में कितने मार्क्स है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। आपका बस ग्रेजुएट होना जरूरी है, तभी आप इस परीक्षा के लिए आवेदन कर पाएंगे।

डीएम बनने के लिए कितनी उम्र होनी चाहिए? (DM Banne Ke Liye Age Limit)

डीएम वहीं व्यक्ति बन सकता है, जो भारत का नागरिक है। उसके अलावा डीएम बनने के लिए आयु सीमा भी निर्धारित की गई है, जिसके बारे में जानकारी निम्नलिखित बिंदुओं में दी गई है।

  • अगर आप सामान्य वर्ग से हैं तो आपकी उम्र 21 साल से 30 साल तक होनी चाहिए।
  • ओबीसी वर्ग वालों को 3 साल की छूट दी गई है, इसका अर्थ है कि उनकी उम्र 21 साल से 33 साल तक होनी चाहिए।
  • एससी और एससी वाले उम्मीदवारों को भी 5 साल की छूट मिलती है, जिसकी वजह से वे 21 साल से 35 साल की उम्र तक आवेदन कर सकते हैं।

इसके अलावा कई लोगों का सवाल है कि DM Banne Ke Liye Kitni Height Honi Chahiye तो चलिए इसके बारे में भी जानकारी देते हैं।

डीएम बनने के लिए हाइट कम से कम 5 फीट 6 इंच या इससे अधिक होनी चाहिए, तो आप डीएम बन सकते हैं। 

डीएम कैसे बने? (DM Kaise Bante Hai In Hindi) 

डीएम बनने के लिए बहुत ज्यादा मेहनत लगती है, इसलिए अगर आप इतनी मेहनत कर सकते है तो आप डीएम बन सकते है। डीएम बनने के लिए यूपीएससी परीक्षा पास करनी पड़ेगी, चलिए इसके बारे में और जानते है।

  • डीएम बनने के लिए पहले ग्रेजुएशन पास करें और यूपीएससी एग्जाम के लिए अप्लाई करें।
  • यूपीएससी में आपके तीन परीक्षाएं होगी। जिसमें पहले प्रीलिम्स, दूसरी मुख्य परीक्षा और तीसरा आपका इंटरव्यू होगा।
  • यूपीएससी द्वारा आयोजित होने वाली प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा को क्लियर करने के बाद इंटरव्यू लिया जाता है।
  • इंटरव्यू में आपकी मानसिकता, व्यक्तित्व, सोचने की क्षमता और कम्युनिकेशन स्किल्स की परख की जाती है।
  • इन परीक्षाओं में अच्छी रैंक लाने पर आपको आईएएस अधिकारी बनाया जाएगा।
  • जब आप एक आईएएस अधिकारी बन जाएंगे तो उसके बाद आपको कोई पद दिया जाएगा, उस पद पर कार्य करना होगा। फिर एक या दो प्रमोशन होने पर आपको डीएम की पोस्ट दी जाती है। 

डीएम की सैलरी कितनी होती है? (DM Ki Salary Kitni Hoti Hai)

डीएम की शुरुआत में सैलरी लगभग 56 हजार रुपए हर महीने की होती है, लेकिन धीरे-धीरे डीएम की सैलरी हर महीने 1.20 लाख रुपए होती है।

ऐसी अच्छी सैलरी के साथ डीएम को कई अच्छी सुविधाएं भी दी जाती हैं। चलाने के लिए सरकारी गाड़ी और ड्राइवर, रहने के लिए बंगला, घर में खाना बनाने के लिए रसोइया और अन्य नौकर की भी सुविधा दी जाती है।

डीएम की सुरक्षा के लिए पुलिस और सिक्योरिटी गार्ड, कई अन्य सुविधाएं भी फ्री होती है जैसे पानी, बिजली, टेलीफोन सुविधा आदि। डीएम को अन्य व्यय के लिए भत्ते और पेंशन मिलती है।

डीएम का क्या काम होता है? (DM Ka Kya Karya Hota Hai)

डीएम के कार्य पूरे जिले के लिए महत्वपूर्ण होते है, क्योंकि डीएम जिले में हर काम करने के लिए जिम्मेदार होता है। डीएम के कार्यों के बारे में जानने के लिए निम्नलिखित जानकारी को पढ़ें।

  • जिले में अच्छी कानूनी व्यवस्था और नियम बनाए रखने का कार्य डीएम का महत्वपूर्ण कार्य होता है।
  • डीएम को जिला योजना केंद्र का अध्यक्ष बनाया जाता है तथा इसके कार्य करने होते है।
  • प्राकृतिक आपदाओं के समय आपदा प्रबंधन का भी काम करता है।
  • अन्य अधिकारियों के कार्यों का निरीक्षण करना।
  • पुलिस स्टेशन, जेलों आदि का डीएम निरीक्षण करता है।
  • सरकार को हर वर्ष कई प्रकार की फाइल एवं रिपोर्ट तैयार करके देता है।
  • कई प्रकार के मुकदमों की सुनवाई करना भी डीएम का काम होता है।
  • डीएम हर कार्य की जानकारी मंडल आयुक्त को देता है।
  • भूमि मूल्यांकन और भूमि अधिग्रहण का कार्य भी डीएम का होता है।
  • दंगो और अन्य आक्रमण के समय इस मुसीबत से निपटना।
  • भूमि रिकॉर्ड, भूमि सुधार और कृषि ऋण देना भी डीएम का महत्वपूर्ण कार्य होते हैं।

डीएम का पॉवर क्या होता है? (DM Ka Power Kitna Hota Hai)

आपने डीएम के कार्य, डीएम की सैलरी और सुविधाएं आदि के बारे में तो जान लिया है। अब डीएम का पावर क्या होता है, इसके बारे में चर्चा करेंगे।

  • डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट जिले के सभी सरकारी विभागों का मुख्य अधिकारी या मुखिया होता है।
  • जिले की सरकारी इंडस्ट्री, प्राइवेट इंडस्ट्री आदि के बारे में जानकारी और नियंत्रण करने का अधिकार डीएम का होता है।
  • डीएम की एक पावर यह है कि मुख्यमंत्री इन्हें नहीं हटा सकता है, केवल इनका एक जगह से दूसरे जगह ट्रांसफर कर सकते हैं।
  • जिले में कर्फ्यू , दंगों, एवं अन्य अपराधिक घटनाओं के वक्त डीएम ही इससे संबंधित कोई निर्णय ले सकता है।
  • अपराधियों पर कार्रवाई, फायरिंग, लाठी चार्ज आदि जैसे आदेश भी डीएम दे सकता है।
  • डीएम जिले के पुलिस विभाग पर नियंत्रण करता है।

FAQs – कलेक्टर से बड़ा अधिकारी कौन होता है?

आपने यहां तक कलेक्टर से बड़ा अधिकारी कौन है इसके बारे में सारी जानकारी हासिल कर ली है। आप इस विषय से जुड़े कुछ सवाल जवाब भी पढ़ सकते हैं।

#1: डीएम और कलेक्टर में सबसे बड़ा कौन होता है?

डीएम और कलेक्टर में सबसे बड़ा अधिकारी डीएम होता है। डीएम को सौंपी गई जिम्मेदारियां और मिली गई शक्तियां कलेक्टर से कहीं ज्यादा होती है, इसलिए डीएम को कलेक्टर से बड़ा अधिकारी माना जाता है।

#2: डीएम का फुल फॉर्म क्या होता है?

डीएम का फुल फॉर्म “District Magistrate” होता है, डीएम को जिला अधिकारी के नाम से भी जाना जाता है तथा यह जिले का सबसे बड़ा अधिकारी होता है।

#3: डीएम का वेतन कितना है?

डीएम का वेतन हर महीने 56 हजार रुपए से 1.20 लाख रुपए तक होता है, इसके अलावा डीएम को सरकार की तरफ से कई प्रकार की अच्छी सुविधाएं भी मिलती है।

निष्कर्ष – कलेक्टर से बड़ा अधिकारी कौन होता है? (Collector Se Bada Adhikari Kaun Hai)

इस आर्टिकल में आपको कलेक्टर से बड़ा अधिकारी कौन होता है, इसके बारे में सारी जानकारी मिल गई होगी। 

इस आर्टिकल में हमने आपको डीएम क्या होता है, डीएम बनने के लिए योग्यता, डीएम की सैलरी, DM Kaise Bane, DM Ka Kya Kaam Hota Hai, DM Ka Power Kitna Hota Hai आदि के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी है।

हम आशा करते हैं कि आपको यह आर्टिकल आपको अच्छा लगा होगा, जिसमें कलेक्टर से बड़ा अधिकारी कौन होता है के बारे में बताया है। आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें और अपने सवाल को कमेंट बॉक्स में लिखें।

Leave a comment