बच्चों का मन पढ़ाई में कैसे लगाएं – baccho ka man padhai me kaise lagaye?

baccho ka man padhai me लगाने के लिए सर्वप्रथम आपको यह कार्य करना होगा, कि अपने बच्चों पर या ध्यान दें, कि उनको कभी भी अकेलापन ना महसूस होने दें। इसके साथ ही अपने बच्चों के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताएं।

बच्चों का मन पढ़ाई में कैसे लगाएं?

बच्चों का मन पढ़ाई में कैसे लगाएं - baccho ka man padhai me kaise lagaye

अगर आपके बच्चे का मन घर में पढ़ाई करने का नहीं है तो उसे डांटे हमारे ना बल्कि उसे प्यार तो समझा कर पढ़ने के लिए तैयार करें। इसके अलावा भी कई प्रकार से आप अपने बच्चों का मन पढ़ाई में लगवा सकते हैं। 

अपने बच्चो का मन पढ़ाई में लगाने के सभी उपाय बताए गए हैं, तो आप हमारे इस आर्टिकल में अंत तक पढ़ें जिससे आपको बच्चों के पढ़ाई में मन लगाने की जानकारी प्राप्त हो जाए।

#1. पढ़ाई के लिए मोटिवेट करें

आपको अपने बच्चे को पढ़ाई के लिए मोटिवेट करते रहना पड़ेगा है अर्थात आप उसे ऐसी ऐसी कहानियां सुनाएं, जिसे सुनकर आपका बच्चा पढ़ने के लिए मोटिवेट हो सके और पढ़ाई को बहुत अच्छे से बोझ समझे बिना, तरक्की की राह समझ कर पढ़ाई में लग जाए। 

आप अपने बच्चों को मोटिवेट करने के लिए खुद उनके साथ पढ़ सकते हैं जब जब वह आप को पढ़ते हुए देखेंगे तो वह अवश्य आपको देखकर कुछ ना कुछ सीखेंगे और वह भी पढ़ने के लिए बैठ सकते हैं,

क्योंकि आप यह बात बहुत अच्छी तरह से सुने होंगे की जैसे बड़े करते हो वैसे छोटे भी करते हैं, तो इसलिए आप उनके सामने किताब खोलकर पढ़ने के लिए बैठ जाएं और इससे आपका बच्चा भी अपना किताब खोलकर पढ़ने के लिए बैठ सकता है

#2. नींद का खास ख्याल रखें

यदि आप अपने बच्चे का मन पढ़ाई में लगाना चाहते हैं, तो उसके नींद का खास ख्याल रखें। आप कोशिश करें कि आपका बच्चा दिन में ना सोए और आप यह भी कोशिश करें कि आपका बच्चा सुबह जल्दी उठ जाए।

यदि आपका बच्चा भरपूर नींद लेता है, तो आप काफी आसानी से पढ़ाई में मन लगा सकता है और कक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर सकता है, तो आप अपने बच्चों की नींद को पूरी तरह से ख्याल रखे और आप अपने बच्चो को पढ़ाई में तेज बनाएं

#3. घर का माहौल ठीक रखें

यदि आपकी यह इच्छा है कि आपका बच्चा मन लगाकर अपने पढ़ाई को पूरा करें, तो आपको अपने घर का माहौल ठीक रखना पड़ेगा अर्थात आपको यह कोशिश करनी है कि आपके घर में किसी भी प्रकार का झगड़ा ना हों।

इससे ना केवल बच्चे के दिमाग पर ही प्रभाव पड़ता है, बल्कि घर के प्रत्येक सदस्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है और यदि आप अपने घर का माहौल ठीक रखते, तो आपके बच्चे का दिमाग स्थिर रहेगा, जिससे वह बिल्कुल स्थिर होकर अपने पढ़ाई को जारी रख सकता है।

#4. बच्चों के भोजन पर ध्यान दें

आपको अपने बच्चे के खान-पान पर विशेष ध्यान देना है, क्योंकि खान-पान पर काफी कुछ निर्भर करता है। मान लीजिए यदि आपका बच्चा अक्सर कुछ ना कुछ बाहर की चीजें और इसके अतिरिक्त कुछ ऐसा पदार्थ जो बहुत ही लंबे समय पर खाना चाहिए, 

ऐसे पदार्थ को हमेशा खाता है, तो उसको कुछ समस्या हो सकती है और इस वजह से आपके बच्चे का मन पढ़ाई में नहीं लगेगा। इसके अतिरिक्त यदि बच्चे के खान-पान में किसी प्रकार की कमी भी हो जाती है, तो उससे भी कुछ बीमारियां हो सकती हैं।

इसलिए आप अपने बच्चे के खानपान पर अवश्य ध्यान दें और समय पर भोजन भी कराते हैं, ऐसा करना आपके और आपके बच्चे के लिए काफी अच्छा रहेगा और इस वजह से आपके बच्चे का मन पढ़ाई में लग सकता है

#5. बच्चों के सामने अच्छी बातें करें

आपको अपने बच्चे के सामने या बच्चे के साथ हमेशा अच्छे बातें करना चाहिए। अच्छी बातें करने का मतलब यह है कि आप अपने बच्चो को सही और गलत का फर्क समझा सके, इससे यह होगा कि आपका बच्चा गलत रास्ते पर जाने से बच सकता है।

जब आप अपने बच्चे के सामने अच्छी बातें करेंगे, उसके अंदर हमेशा सकारात्मक विचार चलेंगे, जिससे वह अपनी पढ़ाई लिखाई सकारात्मक तरीके से जारी रखेगा अर्थात उसको अपनी पढ़ाई को लेकर कभी भी नकारात्मक विचार नहीं आएंगे

#6. बच्चों को खेलने का समय दे

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया है कि बच्चे के खानपान से उसके हेल्थ पर असर पड़ता है, ठीक उसी प्रकार से खेलने कूदने से भी शरीर स्वस्थ रहता है और मानसिक स्थिति भी सही रहती है। 

अतः आप अपने बच्चे को प्रत्येक दिन खेलने का समय ले, आपके बच्चे को जो भी गेम पसंद हो उसे अवश्य खेलने के लिए समय दें, पर आप उन्हें दौड़ने भागने वाला गेम अवश्य खेलने को कहें, 

जब आपका बच्चा खेलकूद कर पढ़ने के लिए बैठेगा तो उसका दिमाग पूरी तरह से पढ़ाई 

पर फोकस करेगा और इस वजह से आपके बच्चे को पढ़ाई में मन लगेगा, तो आप अवश्य अपने बच्चे को खेलने के लिए समय दें।

#7. बच्चों के लिए टाइम टेबल बनाएं

आप अपने बच्चे का टाइम टेबल बनाएं और उन्हें अच्छे से समझा दे कि यह आपके समय सारणी है और इसी समय सारणी के अनुसार आपको काम करना है, पर ध्यान रखें समय सारणी में खेलने- कूदने, पढ़ने-लिखने, खाने-पीने जैसे अन्य क्रिया को सही समय पर व्यवस्थित करें।

अर्थात आपको अपने बच्चे की समय सारणी इस प्रकार से व्यवस्थित करने हैं, जिससे आपके बच्चे को किसी प्रकार की तकलीफ ना हो। बस वह अपने का सारे काम सही समय पर आसानी से कर सकें।

#8. बच्चों का study room बनाकर रखें

यदि आप अपने बच्चों का मन पढ़ाई में लगाना चाहते हैं, तो आप उसके लिए एक study room तैयार कर दें और जब तक आपका बच्चा study room में पढ़ाई करेगा तब तक आप उसे किसी भी प्रकार से डिस्टर्ब ना करें।

study room इसलिए ही बनाया जाता है, ताकि किसी भी छात्र को उसके पढ़ाई में कोई बाधा ना आए और यदि आपके पास ऐसी सुविधा नहीं है कि आप अपने बच्चे के लिए study room बनवा सकें,

तो उस स्थिति में आपको अपने बच्चे की पढ़ाई में भी किसी प्रकार से डिस्टर्ब नहीं करना है, तो आप ऐसा करके अपने बच्चे को पढ़ाई में मन लगा सकते हैं।

#9. बच्चों के पढ़ाई से जुड़ी समस्या का समाधान करें

यदि आपके बच्चे के पास पढ़ाई से जुड़ी समस्याओं अर्थात उसे कोई सवाल नहीं आ रहे हैं या फिर उसे कोई सब्जेक्ट समझ में नहीं आ रहा है, तो उसमें आप उसकी मदद करें, इसके अतिरिक्त यदि कोई पढ़ाई में पैसों से जुड़ी समस्या है, तो आप कोशिश करें कि वह भी समस्या दूर हो जाए।

#10. बच्चे की पढ़ाई पर ध्यान दें

आपको विशेष रूप से अपने बच्चे की पढ़ाई पर ध्यान देना है अर्थात आपको हमेशा यह चेक करते रहना है कि आपका बच्चा सही से पढ़ रहा है कि नहीं या फिर उसने अपने समय के अनुसार कोर्स समाप्त किए हैं।

कि नहीं इसके अतिरिक्त उसके पढ़ाई में किस प्रकार की समस्या आ रही है जैसे अन्य समस्याओं को जानना और उसका समाधान निकालना आपका फर्ज बनता है।

#11. बच्चे के ऊपर कभी दबाव ना बनाएं

आप अपने बच्चे का मन पढ़ाई में लगाना चाहते हैं, तो आप उसे बार-बार पढ़ने के लिए फोर्स ना करें। जब कोई व्यक्ति अपने बच्चे को बार बार पढ़ने के लिए दबाव डालता है, तो बच्चे का मन पढ़ाई से हटने लगता है। इसलिए आप केवल उसी टाइम पढ़ने के लिए कहा जब उसका पढ़ने का समय हो जाए।

#12. बच्चों को समझाने का तरीका समझे

बच्चे को किसी प्रकार की समस्या आती है, तो उसे समझाने से पहले आप यह जान निक्की बच्चों को कैसे समझाया जाता है अर्थात आप उसे कभी भी मारपीट कर समझाने का प्रयास ना करें।

क्योंकि कभी भी बच्चे को मारपीट के समझाने से वह बच्चा डर जाता है और मारपीट कर कभी समझाया नहीं जा सकता है केवल डराया जा सकता है, इसलिए सबसे पहले आप उसे समझाने का तरीका समझे।

#13. बच्चों के स्वास्थ्य का खास ख्याल रखें

आपको अपने बच्चे का स्वास्थ्य का ख्याल रखना बहुत ही आवश्यकता है, जब स्वास्थ ठीक रहेगा तभी बच्चे को पढ़ने में मन भी लगा रहा है। आप इस बात से खुद अंदाजा लगा सकते हैं, कि जब किसी को शारीरिक दिक्कत आ जाती है। 

तो उसका ध्यान बार-बार उसे बदलता है, तो आप अपने बच्चे को पौष्टिक आहार दे और उन्हें खेलने कूदने का भी समय दें, इससे आपका बच्चा स्वस्थ रहेगा।

#14. बच्चों के पढ़ाई के लिए रीवार्ड दें

आप अपने बच्चे को हमेशा रिवॉर्ड देकर प्रोत्साहित करते रहें अर्थात आप उससे यह कहे कि यदि आपने यह क्लास पास कर लिया, तो आपको इस प्रकार का गिफ्ट दिया जाएगा। 

इससे आपके बच्चे के अंदर पढ़ने की इच्छा होगी और वह बार-बार की कोशिश करेगा। इसलिए आपसे ऐसे छोटे-मोटे लालच देते रहें।

#15. बच्चों को पढ़ाई का महत्व समझाएं

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप अपने बच्चे को पढ़ाई का महत्व समझाएं। जब आपका बच्चा पढ़ाई का महत्व समझ जाएगा तो आपको इतना ध्यान देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। आपका बच्चा खुद से ही पढ़ाई करेगा।

निष्कर्ष – बच्चों का मन पढ़ाई में कैसे लगाएं

बच्चों का पढ़ाई में मन कैसे लगाएं, इस पर आधारित हमारे इस आर्टिकल में आप को बच्चों का मन पढ़ाई में कैसे लगाएं इसके बारे में आपको संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो गई होगी और हम आशा करते हैं, कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। 

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया हो तो आप हमारे इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और पेज को भी फॉलो करले जिससे आपको पढ़ाई से संबंधित और जानकारी प्राप्त होती रहे।

Leave a comment